छोटे बच्चो में कोरोना के लक्षण और उपाय | Chote Baccho me Corona ke Lakshan

Chote Baccho me Corona ke Lakshan
Chote Baccho me Corona ke Lakshan

छोटे बच्चो में कोरोना के लक्षण और उपाय  Chote Baccho me Corona ke Lakshan 

आप अगर इस पोस्ट पढ़ रहे है तो जरूर आप बच्चे के अभिभावक, बड़े भाई-बहन और सुभचिंतक होंगे। बोलने और बताने में असमर्थ छोटे बच्चो के अभिभावक के मन में ये  सवाल जरूर आने चाहिए कि कोरोना से बचने के लिये बच्चो को क्या सावधानी रखें, छोटे बच्चो में कोरोना के लक्षण क्या है आदि। chote baccho me corona ke lakshan

आज से लगभग एक साल पहले कोरोना हमारे देस इंडिया में आया था। तब से अब तक जो सोचा ना था वो सब हो रहा है। पहले बुजुर्गो में सबसे ज्यादा केस देखने को मिले, फिर हमारे आपकी उम्र (30-50) युवा भी पोसेटिव (+) हुए , और अब हाल ये है कि 1 से 12 साल की आयु के बच्चे भी इसकी चपेट में आ रहे है , ये बात सच मे गंभीर और डराने वाली है ।

इस पोस्ट में आपको काफी कुछ जानेंगे को मिलेगा जो कि हमारे आने वाले भविष्व की सुरक्षा करने में मदद करेगा। इस पोस्ट में छोटे बच्चो में कोरोना के लक्षण, सावधानी रखने के लिये कुछ उपाय, इम्युनिटी बढ़ाने के टिप्स, और बच्चो के लिए वैक्सीन में बारे जानेंगे। इसलिये आप इस पोस्ट को पूरा पढ़े ।

छोटे बच्चो में कोरोना के लक्षण: Chote baccho me corona ke lakshan, Corona Symptoms in Kids

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से जुड़े मामले सामने आने लगे है, जिसमे कोरोना वायरस अब सभी वर्ग के आयु वाले लोगो को प्रभावित कर रहा है। आसान भाषा मे समझे तो इस एक साल के दौरान कोरोना ने खुद को और ज्यादा मजबूत कर लिया है, जिसे हम नया स्ट्रेन कह रहे है। नए स्ट्रेन में कुछ केस 8-10 महीने के बच्चो में भी पाए गए। 

बच्चे किसी भी उम्र के हो इम्युनिटी उनमे कम ही होती है ऐसे में कोरोना वायरस की 2nd लेहर का शिकार बच्चे भी हो रहे है, और इनके लक्षणों में कुछ नए लक्षण भी शामिल है। आइये पहले जानते है बच्‍चों में कोविड के लक्षण: Symptoms of corona in kids

  •  पसलियां ज्यादा चलना
  •  सांस फूलना या सांस लेने में दिक्‍कत होना
  •  बच्चे के खाना-पीना कम कर देना
  •  बच्चे का चिड़चिड़ा हो जाना 
  •  पहले की तुलना ज्यादा सोना
  •  बच्चे को ज्यादा दिनों से बुखार होना
  •  शरीर और पैर में लाल चकत्ते पड़ना
  •  होंठ फटना या लाल होना
  •  चेहरा नीला पड़ना
  •  दस्त या उल्टी होना
  •  हाथ-पैर में सूजन आना
  •  ज्यादा नाक बहना
  •  बच्‍चों में कोरोना के लक्षणों में खांसी, बुखार और ठंड लगना भी शामिल है। 

Note: सांस लेने मे दिक्कत की वजह से बच्चो में निमोनिया का खतरा बढ़ जाता है। 



छोटे बच्चो में कोरोना के लक्षण
source: www.freepressjournal.in

ज्यादातर बच्चो में कोरोना के लक्षण हल्के हो सकते है और कभी-कभी तो बिना लक्षण भी बच्चे संक्रमित होते है। ऐसे में छोटे बच्चे अपनी तकलीफ किसी से बता तो बिल्कुल नही सकते, इस स्तिथि में आपको ही गौर करना होगा और बच्चो की सभी गतिविधियों-प्रतिक्रियाओ पर नज़र बनानी होगी। 

बच्चे शारीरिक रूप से कमजोर होते है और ऐसे वक्त में बच्चो में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए कुछ उपाय हम सब को जरूर अपनाने चाहिए ताकि बच्चो को वायरस और एयर पॉल्युशन/Air-Pollution के प्रति मजबूत बनाया जा सके। 

कोरोना और वायु प्रदूषण से बच्‍चों की इम्‍यूनिटी बढ़ाएं : बच्चो में संक्रमण के खतरे को कम करें। 

हम सब जानते हैं, समय पर कोई कार्य किया जाए तभी उसका फल समय रहते मिलता है, वरना Late हो जाता है। बच्‍चों की इम्‍यूनिटी बढ़ाने और मजबूत करने का यही सही समय है। ताकि बच्चे का शरीर खुद से इन खतरों से लड़ पाए। अपने बच्चे के आहार और जीवन-शैली में थोड़ा सा बदलाव करके उनकी इम्युनिटी (रोग प्रतिरोधक छमता) को बढ़ाया जा सकता है। 

बच्चो को डरने के बजाय उन्हें कोविड-19 के बारे में सावधान करे। डराने से बच्चे की मानसिकता पर बुरा असर पड़ेगा। यहाँ हम कुछ सावधानिया और इम्युनिटी बढ़ाने के लिए उपाय बता रहे हैं जिन्हे अपना कर कोरोना और एयर-पोलुशन से बच्चो को बचाया जा सके।

1. स्तनपान कराये/Breastfeeding: छोटे बच्चे के लिए दूध से अच्छा कुछ नहीं होता क्योकि यही एक तरीका है, जिससे माँ की पोषण और शक्ति सीधा बच्चे को मिलती है। 

2. सांस वाली एक्सरसाइज कराएं: बच्चे को गुब्बारा फुलाने के लिए दें। इससे फेफड़े में मजबूती आएगी और बीमारियों में रोकथाम होगी। 

3. गुनगुना पानी पीने दें: इससे संक्रमण/इन्फेक्शन का खतरा कम होता है।

4. बच्चों को हल्दी वाला दूध दें: इससे बैक्टीरियल इंफेक्शन और वायरल इंफेक्शन से लड़ने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही - बच्चों को बार-बार हाथ धोने के लिए प्रेरित करें।

5. खट्टे फल खाने के लिए प्रेरित करें: इससे होने वाले लाभ है की बच्चे के शरीर में विटामिन-C  की भरपाई होगी और इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी। 

6. फल और सब्जियों: फल और सब्जी में लगभग 60-70 % पानी होता है, ऐसे खाने से बच्चे की पाचन क्रिया मजबूत होगी और इम्युनिटी बढ़ेगी।    

कोरोना और वायु प्रदूषण से बच्‍चों की इम्‍यूनिटी बढ़ाएं
कोरोना और वायु प्रदूषण से बच्‍चों की इम्‍यूनिटी बढ़ाएं 
7. पर्याप्त नींद: नींद हर उम्र के लोगो के लिए उतनी ही जरुरी है जितनी बच्चो के लिए। हालॉकि दिन भर Active रहने पर बच्चे को ज्यादा नींद की जरुरत होती है। आपको बस इतना करना है की बच्चे को उसकी इक्छा अनुसार नींद लेने दे। 

8. व्यायाम/ Excercise: वैसे तो व्यायाम जैसी चीज़ो में बच्चे किसी नहीं सुनते, ऐसे में आपको उनकी शारीरिक कसरत की जिम्मेदारी उठाते हुए उन्हें सुबह के समय खेल खेल में ही कसरत करवाए। इम्युनिटी के लिए जितना जरुरी आराम करना है उतना ही जरुरी थकना भी है। 

9. विटामिन डी/Vitamin D: सबसे आसानी से मिलने वाला विटामिन-D का श्रोत है सूरज की किरणे (Sunshine), इसके अतिरिक्त आप चीज़ (Cheese) अंडे का पीला भाग (Egg-yolk) या डॉक्टर की सलाह से Suppliment दे सकते है। 

10. साफ़ सफाई: साफ़-सफाई उतनी ही जरुरी है जितना हमे बच्चे जरुरी है ऐसा समझिये। साफ़-सुथरा रहने से हम-में इन्फेक्शन और एलर्जी का खतरा कम हो जाता है।  chote baccho me corona ke lakshan

11. प्रोबायोटिक (Probiotics): प्रोबायोटिक मतलब खमीर-युक्त खाद्य- जिसमे दही, ढोकला, चीज़-पनीर, इडली-डोसा आदि शामिल है। ध्यान रखे ये सब घर पर ही बने हो।   

12. भरपूर प्यार और स्नेह: उपाय में सबसे आखिरी और सबसे जरुरी है। बच्चे को खुश रखना और उसे एहसास दिलाना आप उससे कितना प्यार करते हो। बच्चों को सावधानी से समझाएं, डराएं बिलकुल नहीं। 

बच्चों के लिए वैक्सीन कब तक आएगी vaccine for kids

WHO के अनुसार अभी तक कोई भी वैक्सीन बच्चो के लिए नहीं बनायीं गयी है, लेकिन इन पर शोध और परिक्षण चल रहा है। फाइजार और मॉडर्ना जैसी चर्चित कम्पनियाँ बच्चो के लिए कोरोना वैक्सीन तैयार करने के प्रयास में लगी हुई है। 

जिस तरह युवा और बुज़र्ग वर्गों के लोगो के लिए वैक्सीन आयी वैसी ही उम्मीद हम बच्चो के मामले में करते है ताकि जल्द ही विश्वभर के बच्चों को वैक्सीन लगाई जा सके। जब तक वैक्सीन नहीं आती तब तक बच्चे की इम्युनिटी पर खास ध्यान दें

FAQ - आम तौर पर पूछे जाने वाले सवाल:  

सवाल- नवजात या छोटे बच्चों में कोरोना के लक्षण की पहचान कैसे करें ?

जवाब- इस पोस्ट को दोबारा पढ़ कर या फिर डॉक्टर से सलाह लेकर।

सवाल-  अगर नवजात या छोटा बच्चा कोरोना (+) हो तो क्या करें?

जवाब- डॉक्टर से परामर्श करें। डॉक्टर की बताई दवाइयां ही बच्चे को खिलायें।

सवाल- बच्चों को संक्रमण से बचाव के लिए क्या एतिहात बरतना चाहिए?  

जवाब- बच्चे को मास्क लगाने की आदत डलवायें, बच्चे के हाथो को हमेशा साफ करते रहें, और बच्चे को छूने से पहले खुद का हाथ भी साफ करें। बच्चे की देखभाल सिर्फ एक ही व्यक्ति को करना चाहिए। 

सवाल- बच्चों को खाने में क्या दें और क्या सावधानियां बरतें?

जवाब- इम्युनिटी बढ़ाने वाले फल-सब्जी दें। च्यवनप्राश और खट्टे फल भी दिए जा सकते है। 

सवाल- क्या बच्चों के लिए कोरोना की कोई दवा है?

जवाब- जी नहीं, अभी तक कोरोना वैक्सीन बच्चो के लिए उपलब्ध नहीं है।  फिर भी छोटे मोठे संक्रमण में बच्चों को दवा डॉक्टर की सलाह से दी जा सकती है।

सवाल- क्या बच्चे परिवार को कोरोना संक्रमित कर सकते हैं?

जवाब- जी हाँ, बच्चे से भी कोरोना फैल सकता है। ऐसी स्थिति में बच्चे को सबसे दूर रखें। बच्चे की देखभाल की जिम्मेदारी सिर्फ एक व्यक्ति ही संभाले।

पोस्ट को यही समाप्त करते हुए हम आपसे विदा लेते है और उम्मीद करते है छोटे बच्चो में कोरोना के लक्षण | Chote Baccho me Corona ke Lakshan का यह पोस्ट आपके काम आया होगा। किसी प्रकार की गलती या सुधार होने पर सूचित करे एवं इस जरुरी जानकारी को अपने दोस्तों और परिवार में जरूर शेयर करें। Hindiansite आपके परिवार की अच्छी सेहत और स्वास्थ की कामना करता है। 

और भी जाने :

 

एक टिप्पणी भेजें

Your comment is Valuable. Please do not enter any spam link in the comment box.

और नया पुराने