Shilajit Uses in Hindi | शिलाजीत के फायदे-नुकसान, उपयोग और सावधानियाँ।

Introduction / परिचय

शिलाजीत (Shilajit) एक दुर्लभ खनिज है और यह लगभग चार सौ खनिजों के संयोजन से बना है। इसे मुमियो या "रॉक जूस" के रूप में भी जाना जाता है जो हिमालय से एकत्र किए जाते हैं। यह भारत और तिब्बत के उच्च हिमालय में चट्टानों में पाया जाने वाला एक काला, रालयुक्त पदार्थ है।

Shilajit Uses in Hindi
Shilajit Uses in Hindi

शिलाजीत हिमालय में पाई जाने वाली एक खनिज पिच है, जहां सदियों से इसका खनन किया जाता रहा है। प्राचीन हिंदू शिलाजीत को एक पवित्र पदार्थ के रूप में मानते थे, और वे अब भी करते हैं। ऐसा माना जाता है कि इससे सभी का इलाज होता है।

स्वास्थ्य और जीवन शक्ति के पूरक और सुधार के लिए इसका उपयोग हजारों वर्षों से लाखों लोगों द्वारा एक प्रभावी तैयारी के रूप में किया गया है। शिलाजीत के साथ टॉनिक के रूप में सेवन करने पर आंवला-वृक्ष असाधारण रूप से अच्छा काम करता है।

Uses / शिलाजीत के उपयोग 

शिलाजीत हिमालय पर्वत में पाई जाने वाली एक खनिज पिच है और इसका उपयोग यकृत, गुर्दे और तंत्रिका संबंधी समस्याओं के इलाज के लिए एक जड़ी बूटी के रूप में किया जाता है।

इसका उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में सदियों से विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं में मदद करने के लिए किया जाता रहा है।

  • शिलाजीत के मुख्य उपयोग समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने, प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार और उम्र बढ़ने के लक्षणों को कम करने के लिए एक सामान्य टॉनिक के रूप में हैं।
  • शिलाजीत वजन घटाने में भी सहायक है।
  • इसका उपयोग स्तन वृद्धि के लिए भी किया जा सकता है। शिलाजीत को ट्यूमर, त्वचा की समस्याओं, बालों के विकास, स्मृति हानि और बहुत कुछ को कम करने के लिए लगाया जा सकता है।
  • शिलाजीत को आयुर्वेद के महान रसायनों में से एक माना जाता है और सदियों से इसका उपयोग किया जाता रहा है क्योंकि यह शरीर के कार्यों को स्वास्थ्य और दीर्घायु बढ़ाने में मदद करता है।

Composition / संयोजन

शिलाजीत एकमात्र पौधा-आधारित पदार्थ है जिसमें फुल्विक एसिड होता है, एक बहुत ही जटिल कार्बनिक पदार्थ जिसमें 70 से अधिक विभिन्न खनिज जैसे कैल्शियम, मैग्नीशियम, सल्फर, सिलिकॉन, फॉस्फोरस और 20 से अधिक अमीनो एसिड हो सकते हैं। कुछ अध्ययनों में शिलाजीत में 99% फुल्विक एसिड पाया गया है।

शिलाजीत में पोषक तत्व भी होते हैं जैसे:

विटामिन- B1, B2, B3, B5, और B6

Minerals / खनिज- कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा, मैग्नीशियम, पोटेशियम और सोडियम (Calcium, Phosphorus, Iron, Magnesium, Potassium and Sodium)

Bioactive Compounds- आइसोक्विनोलिन एल्कलॉइड, फेनोलिक यौगिक, पॉलीसेकेराइड और सल्फर युक्त खनिज

Shilajit Benefits in Hindi / शिलाजीत के लाभ या फायदे 

  • शिलाजीत के उपचार गुणों को काफी हद तक इस तथ्य के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है कि इसमें 85 विभिन्न ट्रेस खनिज होते हैं।
  • शिलाजीत का उपयोग एडाप्टोजेन के रूप में किया जाता है, जिसका अर्थ है कि यह आपके शरीर को शारीरिक और भावनात्मक दोनों तरह से तनाव के अनुकूल बनाने में मदद कर सकता है।
  • यह अतिरिक्त पानी, वसा और जहरीली धातुओं को हटाकर आपके शरीर से विषाक्तता को कम करने में मदद करता है।
  • यह गठिया, गठिया और जोड़ों के दर्द के लिए एक प्रभावी उपाय है जब इसे नियमित रूप से लिया जाता है।
  • इसके विरोधी भड़काऊ गुण इन बीमारियों से आपको होने वाले दर्द पर स्वाभाविक रूप से काम करते हैं।
  • साथ ही जोड़ों की समस्याओं में मदद करने के लिए, शिलाजीत को बवासीर के इलाज में फायदेमंद माना जाता है।  इसे पाचन सहायता के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • शिलाजीत रक्त परिसंचरण को बेहतर बनाने में मदद करता है क्योंकि यह आयरन और सिलिकॉन से भरपूर होता है।

Shilajit Side effects in Hindi / शिलाजीत के दुष्प्रभाव या नुकसान 

  • यह जड़ी बूटी कुछ लोगों में एलर्जी की प्रतिक्रिया पैदा कर सकती है;
  • यदि आपको Pinaceae परिवार के पौधों से एलर्जी है, जैसे कि चीड़ के पेड़ और देवदार के पेड़, तो इस उत्पाद का उपयोग न करें।
  • यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो पहले अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श किए बिना इस उत्पाद का उपयोग न करें।
  • यदि आप इस उत्पाद का उपयोग करते समय किसी भी अवांछित दुष्प्रभाव का अनुभव करते हैं, तो इसका उपयोग तुरंत बंद कर दें और आगे के निर्देशों के लिए अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से संपर्क करें।

How to Use / कैसे इस्तेमाल करे!

आयुर्वेद के अनुसार, शिलाजीत को दो रूपों में लिया जा सकता है: कैप्सूल के रूप में या पाउडर के रूप में जिसे टॉनिक के रूप में लिया जाता है। इसे सामयिक उपयोग के लिए हर्बल तेलों और घी में भी मिलाया जाता है।

Dosage / मात्रा बनाने की विधि

शिलाजीत के प्रत्येक रूप के लिए अनुशंसित खुराक इलाज की स्थिति और रोगी के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। उचित खुराक के बारे में अपने चिकित्सक से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

How Shilajit Works / शिलाजीत कैसे काम करता है?

शिलाजीत में फुल्विक एसिड, ह्यूमिक एसिड, विटामिन और खनिज होते हैं। इसमें एंटीऑक्सिडेंट भी होते हैं, जो शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव पैदा करने वाले मुक्त कणों से लड़ने में मदद करते हैं। मुक्त कण आपके पूरे शरीर में कोशिकाओं, ऊतकों और अंगों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

एंटीऑक्सिडेंट शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करते हैं जो सूजन और कैंसर, गठिया और मधुमेह जैसी पुरानी बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

Precaution & Safety / सावधानी और सुरक्षा

निर्माता द्वारा प्रदान की गई सिफारिशों के अनुसार और आपके आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन में उपयोग किए जाने पर शिलाजीत को बहुत सुरक्षित माना जाता है।

हालांकि, सभी सप्लीमेंट्स की तरह, यह हमेशा अनुशंसा की जाती है कि आप उपयोग करने से पहले एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श करें।

साइड इफेक्ट तब हो सकते हैं जब कुछ जड़ी-बूटियों को बड़ी मात्रा में या लंबे समय तक लिया जाता है।

बोतल या अपने पूरक के पैकेज पर खुराक के निर्देशों का पालन करना सुनिश्चित करें।

Shilajit Price in India / शिलाजीत की कीमत

इस दवा की कीमत कई कारकों पर निर्भर करती है और इस कारण से दवा की कीमत के रूप में एक भी आंकड़ा देना मुश्किल है।

हालांकि, यह आम तौर पर बाजार में तीस दिन की आपूर्ति के लिए Rs.2500 से 10000 (above) की सीमा में उपलब्ध है।

शिलाजीत आमतौर पर काउंटर पर उपलब्ध नहीं होता है, इसलिए आपको इस जड़ी बूटी के नुस्खे के लिए अपने आयुर्वेदिक चिकित्सक के पास जाना होगा।

Conclusion & Review / निष्कर्ष और समीक्षा

शिलाजीत एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी का राल है जो ज्यादातर हिमालयी पर्वतीय क्षेत्रों में दूरस्थ उच्च ऊंचाई वाली चोटियों में पाया जाता है. शिलाजीत का उपयोग सदियों से किया जाता रहा है और इसके कई औषधीय गुणों के लिए मूल्यवान है और आज भी यह बहुत बेशकीमती है लेकिन मानव शरीर पर इसके दूरगामी लाभों और प्रभावों के बारे में कुछ ही लोग जानते हैं।

चूंकि शिलाजीत एफडीए द्वारा विनियमित नहीं है, इसलिए आपको इसे एक प्रतिष्ठित स्रोत से खरीदने का ध्यान रखना चाहिए।

FAQ / सामान्य प्रश्न

What is Shilajit? / शिलाजीत क्या है?

शिलाजीत एक चिपचिपा राल है जो हिमालय के पहाड़ों से आता है, विशेष रूप से पर्वत श्रृंखला के भारतीय भाग में "हिमालय" के रूप में जाना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि यह राल विभिन्न ऊंचाई पर पाया जा सकता है, लेकिन यह प्रामाणिक शिलाजीत माने जाने के लिए समुद्र तल से 3,000 और 6,500 मीटर (9,800 से 21,300 फीट) के बीच से आना चाहिए।

Why Shilajit is used for? / शिलाजीत का प्रयोग क्यों किया जाता है?

आज भी शिलाजीत का उपयोग पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में यकृत रोग, गुर्दे की बीमारी, मधुमेह और कैंसर सहित कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है।

Is it safe to take shilajit daily? / क्या शिलाजीत को रोजाना लेना सुरक्षित है?

एक व्यक्ति शिलाजीत के मटर के आकार के हिस्से को तरल में घोल सकता है और इसे दिन में तीन बार तक पी सकता है, यह पैकेज पर दिए निर्देशों पर निर्भर करता है।

How Shilajit is consumed? / शिलाजीत का सेवन कैसे किया जाता है?

भोजन के बाद 1 शिलाजीत कैप्सूल गुनगुने दूध के साथ लें। 2. बेहतर परिणाम के लिए इसे दिन में एक बार 2-3 महीने तक जारी रखें।

Can females take Shilajit? / क्या महिलाएं शिलाजीत ले सकती हैं?

शिलाजीत को पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए सुरक्षित माना जाता है। हालांकि, यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो शिलाजीत का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से बात करना सबसे अच्छा है, क्योंकि इन समय के दौरान शिलाजीत की सुरक्षा पर सीमित अध्ययन हैं।

एक टिप्पणी भेजें

Your comment is Valuable. Please do not enter any spam link in the comment box.

और नया पुराने