6 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi | 6 मुखी रुद्राक्ष के फायदे-नुकसान, उपयोग और सावधानियाँ

Introduction / परिचय

6 मुखी रुद्राक्ष एक म+नका है जिसे सबसे शक्तिशाली कहा जाता है, और इसे भगवान शिव के रुद्राक्ष के रूप में भी जाना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस मुखी का उपयोग किसी भी उद्देश्य के लिए किया जा सकता है।

6 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi
6 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi

मोती बहुत चमकदार और आकर्षक होते हैं, और कोई भी उन्हें पूरे दिन बिना किसी को देखे पहन सकता है।

इस पोस्ट में हम 6 मुखी रुद्राक्ष और उसके फायदों के बारे में जानेंगे, जिससे पाठक को इसके बारे में और अधिक जानकारी मिलेगी।

6 Mukhi Rudraksha Uses in Hindi / 6 मुखी रुद्राक्ष के उपयोग

6 मुखी रुद्राक्ष सबसे लोकप्रिय रुद्राक्ष किस्मों में से एक है। छह मुखी रुद्राक्ष को भगवान शिव का प्रतीक माना जाता है और यह भगवान शिव की शक्ति का प्रतिनिधित्व करता है। इसे श्री महा मेरु के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है छह मुख वाला।

माना जाता है कि इस रुद्राक्ष को स्वयं भगवान शिव ने पहना था। इस रुद्राक्ष को धारण करने वाले को धन, यश और पराक्रम की प्राप्ति होती है।

  • यह एनीमिया, कम प्रतिरक्षा स्तर और उनींदापन से संबंधित समस्याओं पर काबू पाने में मदद करता है। इस रुद्राक्ष को स्त्री और पुरुष दोनों धारण कर सकते हैं।
  • यह पहनने वाले की ताकत और सहनशक्ति को बढ़ाने में मदद करता है।
  • यह पहनने वाले में धैर्य और आत्म-नियंत्रण विकसित करने में मदद करता है।
  • इसे नियमित रूप से पहनने वाले व्यक्ति के लिए सौभाग्य और समृद्धि लाता है।

6 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi / 6 मुखी रुद्राक्ष के लाभ

  • बुरी नजर से बचाता है
  • मन और शरीर का संतुलन
  • दुश्मनों और रोगों से सुरक्षा देता है
  • तनाव और अवसाद को कम करने में मदद करता है
  • एकाग्रता और स्मरण शक्ति को बढ़ाता है
  • चेहरे की चमक बढ़ाता है
  • यह आंखों से संबंधित बीमारियों जैसे ग्लूकोमा, मोतियाबिंद आदि को ठीक करने में मदद करता है।
  • यह स्वस्थ हृदय कार्य को बनाए रखने में मदद करता है
  • यह तनाव के स्तर को कम करने में मदद करता है और आंतरिक शांति को बढ़ावा देता है, जो आपको जीवन भर शांत दिमाग बनाए रखने में मदद करता है
  • यह नसों से संबंधित समस्याओं जैसे लकवा आदि से बचाता है।
  • यह नकारात्मक ऊर्जाओं को आपके घर में प्रवेश करने से रोकता है।

How to Use 6 Mukhi Rudraksha / 6 मुखी रुद्राक्ष का उपयोग कैसे करें!

  1. इसे दाहिने हाथ की अनामिका में धारण करें।
  2. इसे रविवार या शुक्रवार को न पहनें क्योंकि इन दिनों राहु (उत्तर चंद्र नोड) का शासन होता है।
  3. इसे किसी अन्य रत्न या धातु के साथ न पहनें क्योंकि वे इसके लाभों को समाप्त कर सकते हैं।
  4. पूजा (अनुष्ठान पूजा) करने के बाद ही इसे पहनें।

How does 6 Mukhi Rudraksha work / 6 मुखी रुद्राक्ष कैसे काम करता है?

शिव, विष्णु, ब्रह्मा, गणेश, दुर्गा और सरस्वती। ऐसा कहा जाता है कि यदि कोई व्यक्ति इस रुद्राक्ष को धारण करता है तो उसे इन देवी-देवताओं की सभी शक्तियां प्राप्त हो जाती हैं। यह ज्ञान और ज्ञान प्राप्त करने में भी मदद कर सकता है।

Price / कीमत

इस दवा की कीमत कई कारकों पर निर्भर करती है और इस कारण से दवा की कीमत के रूप में एक भी आंकड़ा देना मुश्किल है।

हालाँकि, आपकी मांग, स्थान और फार्मेसी के अनुसार इसकी कीमत 625-1500 रुपये (और अधिक) तक हो सकती है।

Conclusion & Review / निष्कर्ष और समीक्षा

इस रुद्राक्ष को धारण करने वाला व्यक्ति दीर्घायु होता है और अपने जीवन काल में अच्छे स्वास्थ्य का अनुभव करता है। कहा जाता है कि 6 मुखी रुद्राक्ष अपने पहनने वाले के लिए मन की अत्यधिक शांति लाने के साथ-साथ सभी परिवार के सदस्यों या दोस्तों के बीच सद्भाव लाने के लिए कहा जाता है, जो इस चंद्रशेखर की माला को एक साथ पहनते हैं।

हमें उम्मीद है कि यह लेख आपको 6 मुखी रुद्राक्ष के बारे में और जानने में मदद करेगा, और आपको अन्य प्रकार के रुद्राक्ष के बारे में और जानने में भी मदद करेगा।

FAQ's / अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

How to wear 6 Mukhi Rudraksha? / 6 मुखी रुद्राक्ष कैसे धारण करें?

इसे आप अपने किसी भी हाथ में पहन सकती हैं। अगर आप इसे अपने दाहिने हाथ में पहनना चाहते हैं तो रुद्राक्ष के दाहिने तरफ एक गाँठ बना लें और अगर आप इसे अपने बाएं हाथ में पहनना चाहते हैं तो रुद्राक्ष के बाईं तरफ एक गाँठ बनाओ।

Is 6 Mukhi Rudraksha safe? / क्या 6 मुखी रुद्राक्ष सुरक्षित है?

जी हां, यह बिल्कुल सुरक्षित है। यह प्राकृतिक अवयवों से बना है और इसलिए किसी भी प्रकार के दुष्प्रभाव या प्रतिकूल प्रतिक्रिया की कोई संभावना नहीं है। इसे आप बिना किसी डर के इस्तेमाल कर सकते हैं।

How many varieties are there in 6 Mukhi Rudraksha? / 6 मुखी रुद्राक्ष में कितनी किस्में होती हैं?

6 मुखी रुद्राक्ष तीन प्रकार के होते हैं जिन्हें 1) भीम शिला, 2) कैलाश शिला और 3) सत्यलोक शिला के नाम से जाना जाता है। इन सभी के अपने-अपने फायदे हैं लेकिन गुणवत्ता, कीमत और प्रभावशीलता के मामले में भी ये एक-दूसरे से अलग हैं।

इसलिए अपने लिए किसी एक को चुनने से पहले यह आवश्यक है कि आप इन तीन प्रकारों के बारे में अच्छी तरह से जान लें ताकि आप अपनी आवश्यकताओं और बजट के अनुसार बुद्धिमानी से चुनाव कर सकें।

एक टिप्पणी भेजें

Your comment is Valuable. Please do not enter any spam link in the comment box.

और नया पुराने

In Article Body